Deprecated: Function mysql_db_query() is deprecated in /home/gnn38198/public_html/includes/header.php on line 5

Deprecated: mysql_db_query() [function.mysql-db-query]: This function is deprecated; use mysql_query() instead in /home/gnn38198/public_html/includes/header.php on line 5

Deprecated: Function mysql_db_query() is deprecated in /home/gnn38198/public_html/includes/header.php on line 10

Deprecated: mysql_db_query() [function.mysql-db-query]: This function is deprecated; use mysql_query() instead in /home/gnn38198/public_html/includes/header.php on line 10

Deprecated: Function mysql_db_query() is deprecated in /home/gnn38198/public_html/includes/header.php on line 19

Deprecated: mysql_db_query() [function.mysql-db-query]: This function is deprecated; use mysql_query() instead in /home/gnn38198/public_html/includes/header.php on line 19

Deprecated: Function mysql_db_query() is deprecated in /home/gnn38198/public_html/includes/header.php on line 39

Deprecated: mysql_db_query() [function.mysql-db-query]: This function is deprecated; use mysql_query() instead in /home/gnn38198/public_html/includes/header.php on line 39

Deprecated: Function mysql_db_query() is deprecated in /home/gnn38198/public_html/includes/categorylist.php on line 8

Deprecated: mysql_db_query() [function.mysql-db-query]: This function is deprecated; use mysql_query() instead in /home/gnn38198/public_html/includes/categorylist.php on line 8

Deprecated: Function mysql_db_query() is deprecated in /home/gnn38198/public_html/news_detail.php on line 22

Deprecated: mysql_db_query() [function.mysql-db-query]: This function is deprecated; use mysql_query() instead in /home/gnn38198/public_html/news_detail.php on line 22

Deprecated: Function mysql_db_query() is deprecated in /home/gnn38198/public_html/news_detail.php on line 28

Deprecated: mysql_db_query() [function.mysql-db-query]: This function is deprecated; use mysql_query() instead in /home/gnn38198/public_html/news_detail.php on line 28

डॉक्टरों की हड़ताल से मुश्किल में मरीज

GNN NEWS, Jun 26th, 2012

आइएमए के आह्वान पर एनसीएचआरएच बिल के विरोध में आहूत निजी चिकित्सकों की हड़ताल का गढ़वाल-कुमाऊं में मिलाजुला असर रहा। निजी चिकित्सालयों में ओपीडी बंद रहने से मरीजों का खासी परेशानी झेलनी पड़ी। अलबत्ता, इमरजेंसी सेवाएं सामान्य दिनों की तरह जारी रहीं। चिकित्सकों ने कुमाऊं में विभिन्न स्थानों पर प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजा। ज्ञापन में बिल व क्लीनिकल इस्टेब्लिशमेंट एक्ट-2010 को वापस लेने की मांग उठाई गई है।

आइएमए ने एनसीएचआरएच (नेशनल काउंसिल फॉर ह्यूमन रिसोर्स इन हेल्थ) बिल और क्लीनिकल इस्टेब्लिशमेंट एक्ट को डॉक्टर विरोधी करार देते हुए सोमवार को राष्ट्रव्यापी हड़ताल का आह्वान किया था। इसका राजधानी समेत प्रदेशभर में मिलाजुला असर रहा। राजधानी में आइएमए से जुडे़ 400 डॉक्टर हड़ताल पर रहे। गढ़वाल में अधिकांश स्थानों पर निजी क्लिनिक खुले रहे। लेकिन, हड़ताल प्रभावित स्थानों पर सरकारी अस्पतालों में मरीजों की खासी भीड़ उमड़ी। उत्तरकाशी, गोपेश्वर व रुद्रप्रयाग में हड़ताल बेअसर रही।

हरिद्वार में सौ से अधिक निजी चिकित्सक हड़ताल पर रहे। इससे मरीजों को भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। रुड़की में हड़ताल पूरी तरह प्रभावी रही, जिससे मरीजों ने सरकारी अस्पतालों का रुख करना पड़ा। कुमाऊं में हड़ताल के चलते मरीज खासे परेशान रहे। कई स्थानों पर चिकित्सकों ने प्रदर्शन कर प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजा।